Total Pageviews

Friday, September 2, 2011

Alpha Jee ka Rangeela blog...: फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया...

Alpha Jee ka Rangeela blog...: फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया...: फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया, एक दीवाने ने एक हसीना को बेइंतहा प्यार किया, अपनी खुशियाँ, अपने सपने सब कुछ उस पर वार ...

फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया..........

फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया,
एक दीवाने ने एक हसीना को बेइंतहा प्यार किया,
अपनी खुशियाँ, अपने सपने सब कुछ उस पर वार दिया !
लेकिन हसीना ने उसे हर वक़्त धोखे में रखा,
और एक दिन बेवफाई का खंजर उसके सीने में उतार दिया !
हसीना ने मजबूरियों को सहारा बनाके उससे किनारा कर लिया,
और दीवाने ने भी उसकी यादों से ही गुजारा कर लिया !
तन्हाई में जब हसीना का दिल न लगा,
तो उसने दीवाने से दोबारा आँख मिलाई !
दीवाना तो उसके प्यार में बिलकुल ही अँधा था,
तो समझ लिया हसीना के धोखे को प्यार की सच्चाई !
एक दिन दीवाने ने उसे अपना बनाने की बात की,
मगर हसीना ने फिर वहीँ से सुरुआत की !
इस जख्म से दीवाने का दिल पूरी तरह चकनाचूर हुआ,
प्यार करके धोखा देना अब दुनिया का दस्तूर हुआ !
दीवाने ने हिम्मत करके उससे नाता तोड़ दिया,
उससे जुडी सब राहों से उसने मुह मोड़ लिया !
फिर कभी ना वो उन राहों पर गया,जहाँ उसे तन्हाई मिले,
प्यार के बदले में हरदम सनम से बेवफाई मिले !
ये सब जान हसीना को अपनी किस्मत पर धिक्कार हुआ,
अपनी बेवफाई को याद कर उसका दिल शर्मसार हुआ !
जब दोनों साथ थे तब दीवाने को हरवक्त बेवफाई मिली,
आज जब दोनों अलग हुए, तब हसीना को उससे प्यार हुआ !
लेकिन अब दीवाने के लिए प्यार के मायने बदल गए,
हसीना के लिए प्यार के वादे मोम की तरह पिघल गए !
फिर ना कभी दीवाने ने किसी से मोहब्बत-ऐ-इज़हार किया........